चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे के डर को विराट कोहली ने किया दूर! कही यह बात


Virat Kohli Press Conference Ajinkya Rahane Cheteshwar Pujara IND vs SA: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सोमवार को स्पष्ट किया कि मौजूदा टीम प्रबंधन खराब फॉर्म में चल रहे सीनियर खिलाड़ियों चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे को बाहर करने के बारे में नहीं सोच रहा है, क्योंकि केवल बातचीत से किसी खिलाड़ी के प्रदर्शन में बदलाव नहीं किया जा सकता है. उन्होंने अच्छा प्रदर्शन कर चुके श्रेयस अय्यर और हनुमा विहारी के प्लेइंग इलेवन से बाहर होने के सवाल पर भी जवाब दिया. हालांकि हनुमा को जोहान्सबर्ग टेस्ट मैच में खेलने का मौका मिला था.

इन दोनों सीनियर बल्लेबाजों ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में अर्धशतक जमाकर कुछ फॉर्म हासिल की. लेकिन लंबे समय से रन बनाने के लिए जूझने के कारण सवाल उठ रहे हैं. कहा जा रहा है कि श्रेयस अय्यर और हनुमा विहारी के साथ गलत हो रहा है. उन्हें अच्छे प्रदर्शन के बावजूद बाहर बैठना पड़ रहा है.

अय्यर ने जहां न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में डेब्यू टेस्ट में शतक और अर्धशतक जमाया, वहीं विहारी ने जोहान्सबर्ग टेस्ट में नाबाद 40 रन बनाए. कोहली से पूछा गया था कि क्या इस पर चर्चा चल रही है कि बदलाव के दौर से किस तरह से निबटना है. कोहली ने कहा, ”मैं पक्के तौर पर यह नहीं बता सकता कि हम बदलाव पर कब बात करेंगे. खेल स्वयं ही इस तरह से आगे बढ़ता है जिसमें बदलाव होता है. आप किसी खिलाड़ी पर इसे थोप नहीं सकते.”

Virat Kohli PC Highlights: केपटाउन टेस्ट मैच में नहीं खेलेंगे सिराज, कोहली ने अपनी फिटनेस पर दिया बड़ा अपडेट

वह अपने सीनियर साथियों के बचाव में आगे आए. उन्होंने कहा, ”यदि आप पिछले टेस्ट में ही देखो तो जिस तरह से रहाणे और पुजारा ने दूसरी पारी में बल्लेबाजी की, वह अनुभव हमारे लिए बेशकीमती है. विशेषकर इस तरह की सीरीज में जहां हम जानते हैं कि इन खिलाड़ियों ने पूर्व में अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभायी है.” कोहली ने कहा, इन खिलाड़ियों ने पिछली बार ऑस्ट्रेलिया में अच्छा प्रदर्शन किया था. पिछले टेस्ट में उन्होंने मुश्किल परिस्थितियों में महत्वपूर्ण पारियां खेली और इसका काफी महत्व है.”

Trent Boult ने Kapil Dev और जहीर खान को पछाड़ा, न्यूजीलैंड के लिए ऐसा करने वाले बने चौथे गेंदबाज

कप्तान ने कहा कि बदलाव को लेकर किसी खिलाड़ी के साथ बातचीत पेचीदा हो सकती है और इसे व्यवस्थित तरीके से होने देना चाहिए. कोहली ने कहा, ”मेरा मानना है कि बदलाव होता है और यह स्वाभाविक तौर पर होता है. मुझे लगता है कि बदलाव को लेकर बातचीत को थोपा नहीं जा सकता है.”



Source link

Recommended For You

About the Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *