एशियाई टीमों को रास नहीं आता है न्यूलैंड्स का विकेट, आज तक नहीं जीता एक भी मुकाबला


Cape Town Test: भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला केपटाउन के न्यूलैंड्स स्टेडियम में खेला जाएगा. यह स्टेडियम दक्षिण अफ्रीका का गढ़ रहा है. यहां आज तक एशियाई टीम एक भी टेस्ट मैच नहीं जीत पायी हैं. एशियाई टीमों के अलावा यहां वेस्टइंडीज और जिम्बाब्वे जैसी टीमें भी मैच जीतने में नाकाम रही हैं. 

न्यूलैंड्स में ऐसा रहा है एशियाई, अफ्रीकी और विंडीज टीमों का रिकॉर्ड

  • टीम इंडिया ने यहां पांच मैच खेले हैं. इनमें 3 मुकाबलों में टीम को हार मिली है जबकि 2 मैच ड्रॉ रहे हैं.
  • पाकिस्तान ने यहां 4 टेस्ट मैच खेले हैं और चारों में उसे हार मिली है.
  • श्रीलंका ने भी यहां 4 टेस्ट खेले हैं और सभी में उसकी हार हुई है.
  • वेस्टइंडीज को यहां खेले गए चार मुकाबलों में से 3 में हार मिली है और एक मैच ड्रॉ रहा है.
  • जिम्बाब्वे ने यहां एक ही टेस्ट मैच खेला है और उसमें टीम को हार मिली है.

IND vs SA: पहले टेस्ट के पहले दिन विकेट को तरस गए थे रबाडा, Dean Elgar ने बताया अपने तेज गेंदबाज की धमाकेदार वापसी का राज

न्यूलैंड्स में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड का रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीका से भी बेहतर
न्यूलैंड्स की पिच ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड को बहुत रास आती है. ऑस्ट्रेलिया ने यहां 14 मैचों में 10 जीते हैं और 4 हारे हैं. वहीं इंग्लैंड ने 21 मैचों में 10 जीत हासिल की है और 5 में उसे हार मिली है. दोनों टीमों ने यहां हार से दूगनी जीत हासिल की है. इनकी तुलना में दक्षिण अफ्रीका की जीत का औसत इतना बेहतर नहीं रहा है. दक्षिण अफ्रीका ने यहां खेले गए 58 मुकाबलों में से 26 जीते हैं और 21 हारे हैं.

Team India In South Africa: ऋषभ पंत को जल्द मिलेगी मास्टर क्लास, शॉट टाइमिंग को लेकर कोच द्रविड़ देंगे गुरूमंत्र

सीरीज का निर्णायक मुकाबला रहेगा केपटाउन टेस्ट
टेस्ट सीरीज में भारत-दक्षिण अफ्रीका की टीमें 1-1 से बराबरी पर है. ऐसे में केपटाउन टेस्ट से ही सीरीज की विजेता टीम का फैसला होगा. भारत ने आज तक दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज नहीं जीती है और न ही केपटाउन में कोई टेस्ट जीता है. भारत के पास इस बार 2 ऐतिहासिक रिकॉर्ड एक साथ तोड़ने का मौका होगा.



Source link

Recommended For You

About the Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *