सेबस्टियन कोए बोले- नीरज चोपड़ा का गोल्ड मेडल भारत में एथलेटिक्स के दायरे को बढ़ाने का मौका


Sebastian Coe On Neeraj Chopra: विश्व एथलेटिक्स के अध्यक्ष सेबस्टियन कोए (Sebastian Coe) ने बुधवार को कहा कि भारत को टोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा के एतिहासिक स्वर्ण पदक (गोल्ड मेडल) से मिले मौके का फायदा उठाना चाहिए और अधिक अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट का आयोजन करके देश में एथलेटिक्स के दायरे को बढ़ाना चाहिए. 

एथलेटिक्स में भारत के पहले स्वर्ण पदक को बेहद महत्वपूर्ण लम्हा करार देते हुए कोए ने सलाह दी कि इसका इस्तेमाल देश में खेल के विस्तार के लिए किया जाए. कोए ने एशियाई की चुनिंदा मीडिया के साथ ऑनलाइन बातचीत के दौरान कहा, नीरज चोपड़ा (भारतीय एथलेटिक्स में) काफी अहम हैं. खिलाड़ी का एकमात्र प्रदर्शन उतना शक्तिशाली नहीं होगा, अगर आपके पास मजबूत महासंघ नहीं है तो और आपके पास ऐसा है.

उन्होंने आगे कहा, “यह मौका है कि इस प्रदर्शन का इस्तेमाल एथलेटिक्स के दायरे को बढ़ाने के लिए किया जाए.” कोए ने कहा, “ज्यादा एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं के आयोजन के संदर्भ में कहूं तो भारत ऐसा करने के लिए आगे आना चाहता है. मुझे भारत सरकार की मौजूदा सोच के बारे में नहीं पता, लेकिन मुझे सचमुच में लगता है कि एक दिन भारत ओलंपिक की मेजबानी करेगा.” 

ओलंपिक की 1500 मीटर स्पर्धा में दो बार (1980 और 1984) के स्वर्ण पदक विजेता कोए ने साथ ही कहा कि चोपड़ा के स्वर्ण पदक का असर भारत से आगे भी होगा और इसका प्रभाव दुनिया के कई देशों में दिखेगा. उन्होंने कहा, “उसने जिस तरह सबसे बड़े वैश्विक मंच पर यह कारनामा किया, इसका भारत और एशिया में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में असर होगा.”

कोए ने कहा, “मुझे अच्छी तरह पता है कि दुनिया भर में शहरी जनसंख्या के बीच भारतीय समुदाय की मौजूदगी है. इसलिए इसका विस्तृत असर होगा और अमेरिक, ब्रिटेन और यूरोप व अफ्रीका के बड़े हिस्सों में समुदायों को जोड़ने में मदद मिलेगी जो हमारे खेल का हिस्सा बनना चाहते हैं.”

भाला फेंक के खिलाड़ी नीरज चोपड़ा सात अगस्त को टोक्यो में 87.85 मीटर के प्रयास के साथ एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने थे. वह निशानेबाज अभिनव बिंद्रा के बाद ओलंपिक में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने दूसरे भारतीय हैं. 

मीडिया के साथ वर्षांत बातचीत के दौरान कोए ने कहा कि एथलेटिक्स नंबर एक ओलंपिक खेल के रूप में उभरा है और टोक्यो ओलंपिक के दौरान यह तथ्य फिर साबित हुआ. उन्होंने कहा, “हमारे पास आमूलचूल बदलाव वाला कैलेंडर है, साल दर साल महाद्वीपीय टूर्नामेंटों के स्तर में इजाफा हो रहा है और कई और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन हो रहा है.”

कोए ने कहा कि टोक्यो खेलों ने कोविड-19 के कारण पैदा हुए अवसाद से बाहर निकलने में मदद की और रोशनी की किरण दिखाई. वर्ष 2030 तक के खाके के संदर्भ में कोए ने खेल के आधार को बढ़ाने और लोगों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए बच्चों के एथलेटिक्स कार्यक्रम का उदाहरण दिया. 

उन्होंने कहा कि सरकार और एनजीओ के साथ अधिक साझेदारियां वैश्विक योजना का अहम हिस्सा हैं. बीजिंग में 2022 शीतकालीन ओलंपिक के राजनयिक बहिष्कार को अर्थहीन काम करार देने के लिए कोए को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है. कोए ने कहा, मैं खेलों के बहिष्कार का विरोधी रहा हूं. मैंने 1980 और 1984 ओलंपिक में स्वयं इसका अनुभव किया. वे वह हासिल नहीं कर पाए जिसे हासिल करना चाहते थे. चीन पर शिनजियांग प्रांत में उइगर लोगों के मानवाधिकार का उल्लंघन करने का आरोप लगता रहा है.



Source link

Recommended For You

About the Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *