अश्विन को लेकर Ganguly का बड़ा खुलासा, बताया किसकी वजह से हुई टीम इंडिया में वापसी


Saurav Ganguly on R Ashwin: बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने स्वीकार किया है कि उन्हें यकीन नहीं था कि स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन फिर से सीमित ओवरों में टीम इंडिया का हिस्सा होंगे या नहीं. अश्विन ने 2017 में बाहर किए जाने के बाद चार साल तक भारत के लिए सीमित ओवरों में एक भी मैच नहीं खेला था. गांगुली ने हालांकि खुलासा किया कि विराट कोहली टी20 विश्व कप के लिए अश्विन को टीम में रखना चाहते थे. अश्विन ने जिस तरह से मौके का फायदा उठाया, गांगुली ने उनकी सराहना की. 

गांगुली ने खेल पत्रकार बोरिया मजूमदार से बातचीत में कहा कि मुझे भरोसा नहीं था कि आर अश्विन दोबारा कभी लिमिडेट ओवर टीम का हिस्सा बनेंगे या नहीं. लेकिन विश्‍व कप के लिए विराट कोहली उन्‍हें टीम में चाहते थे और जो भी मौका उन्‍हें मिला, उसका इस गेंदबाज ने पूरा फायदा उठाया और शानदार प्रदर्शन किया. 

शानदार रही है अश्विन की वापसी

बता दें कि अश्विन ने टी20 विश्व कप के 3 मैच में 6 विकेट लिए थे. फिर न्‍यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में भी उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया. सौरव गांगुली ने आगे कहा कि हर कोई उनके बारे में बात कर रहा है. कानपुर टेस्‍ट के बाद कोच राहुल द्रविड़ का भी बयान आया था कि उन्‍होंने अश्विन को ऑल टाइम ग्रेट गेंदबाज बताया. अश्विन की प्रतिभा तलाशने के लिए आपको रॉकेट साइंस की जरूरत नहीं. मैंने जो देखा, उसी आधार पर तारीफ की है. यह अश्विन, श्रेयस अय्यर, रोहित शर्मा या विराट कोहली कोई भी हो सकता है. अश्विन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज में कुल 14 विकेट लिए थे. उन्होंने मैन ऑफ द सीरीज का अवॉर्ड मिला था. 

इसे भी पढ़ें- Ind vs SA Series: Virat Kohli से BCCI नाराज! कहा- जो भी हो रहा सही नहीं, सीरीज के बाद करेंगे…

न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में अश्विन ने हरभजन सिंह को पछाड़ दिया. वह हरभजन के 417 विकेटों से आगे निकल गए हैं. टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए वह तीसरे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए हैं. कई बार ऐसा भी हुआ है जब अश्विन को बिना किसी ठोस कारण के प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था. इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज के दौरान भी ऐसा ही हुआ था.

गांगुली ने इसपर कहा कि मुझे कोई कारण नहीं दिख रहा है जिससे मुझे उनका समर्थन नहीं करना चाहिए. देखें कि वह कितनी विजेता टीमों का हिस्सा रहे हैं. 2011 विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का वह हिस्सा था. 2013 में जब भारतीय टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी जीती, तो वह उस टूर्नामेंट में एक प्रमुख गेंदबाज थे. जब सीएसके ने आईपीएल जीता, तो वह उनके लिए पावरप्ले और कठिन परिस्थितियों में गेंदबाजी करने वाले मुख्य गेंदबाज थे. 

इसे भी पढ़ें- Mohammed Azharuddin: टीम इंडिया में पड़ चुकी है दरार! अजहर बोले- ब्रेक लेने की टाइमिंग बेहतर होनी चाहिए

गांगुली ने कहा कि उनका टेस्ट रिकॉर्ड देखिए, यह शानदार है. मुझे यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि रविचंद्रन अश्विन असाधारण हैं. उनका रिकॉर्ड और उनका प्रदर्शन इसे दर्शाता है. और आप ऐसे खिलाड़ियों को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते. वह जो कर रहा है उससे मैं हैरान नहीं हूं. 

 

 

 



Source link

Recommended For You

About the Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *